Hot Best Seller

जाति का संहार और भारत में जातियाँ Annihilation of Caste and Castes in India by Dr. Ambedkar जातिभेद का बीजनाश / जातिभेद का उच्छेद / एनाहिलेश ऑफ कास्ट

Availability: In stock

149.00

सभी मित्रों को दिल से जय भीम। हमें आपका आर्थिक सहयोग तो चाहिए ही और साथ में आपके दिल में इस बात का ख्याल भी चाहिए कि हमें बाबा साहिब डॉ. भीम राव आंबेडकर जी के विचारों को न केवल प्रचारित ही करना है, बल्कि इसके लिए निखिल सबलानिया जी का पूरा साथ भी देना है जिन्होंने यह निश्चय किया है कि अजीवन डॉ. आंबेडकर जी के विचारों का प्रचार करने और भारत को जातिविहीन राष्ट्र बनाने के लिए प्रतिबद्ध रहेंगे। इन पुस्तकों के जरिए आप उन्हें आर्थिक सहयोग देंगे जो सीधा डॉ. आंबेडकर जी जी के मिशन में सहयोग होगा। सहयोग देने के लिए अधिक जानकारी के लिए यहाँ काॅल करें M. 8851188170, WA. 8447913116, M. 8527533051

लेखक डॉ भीमराव आंबेडकर जी

अनुवादक निखिल सबलानिया

Written By Dr BR Ambedkar

Translated by Nikhil Sablania

2 पुस्तकें एक साथ हिंदी भाषा में

अनुवादक निखिल सबलानिया ने डॉ. आंबेडकर जी की दो अन्य पुस्तकों को भी अनुवादित किया गया। उनके द्वारा अनुवादित – अछूत और ईसाई धर्म, में डॉ. आंबेडकर जी के धार्मिक दर्शन को बहुत अच्छे से समझाया गया और इसके अनुवाद की प्रशंसा की गई। उनका डॉ. आंबेडकर जी लिखित, एक अन्य अनुवाद – शूद्र कौन थे? वे भारतीय आर्य समाज में चौथा वर्ण कैसे बने? (हू वर द शूद्रास? एंड हाओ दे केम टु बि दि फोर्थ वर्ण आॅफ इंडो-आर्यन सोसाइटी?), डाॅ. आंबेडकर जी के जन्मदिन 14 अप्रैल 2023 को प्रकाशित होगा। उन्होंने पुस्तक दलित की गली व बुद्ध का पथ, का भी लेखन किया है।

Quantity :

पुस्तकों की प्रमुख विशेषताएं –

1. जैसा कि डॉ. आंबेडकर जी चाहते थे, इन दोनों पुस्तकों को एक ही पुस्तक में प्रकाशित किया जा रहा है।

2. पुस्तकों के हिंदी अनुवाद को मूल इंग्लिश के अनुवाद के अनुसार ही किया है और कोई बदलाव नहीं किया गया।

3. अनुवाद सरल है पल हल्का नहीं है। कठिन शब्दों के सरल शब्दों को भी साथ में दिया गया है।

4. डाॅ. आंबेडकर जी की विशेष बातें मोटे शब्दों में (बोल्ड में) है जिससे आप रेफरेंस के लिए प्रयोग कर सकते हैं।

5. जिन विदेशी दर्शिनकों का डाॅ. आंबेडकर जी ने जिक्र किया है, उनके नाम हिंदी और इंग्लिश में भी दिए हैं। इससे आप उनके बारे में भी अध्ययन कर सकते हैं।

6. डाॅ. आंबेडकर जी के प्रमुख विचारों को एक पृष्ठ पर विशेष रूप से लिखा (कोट किया) गया है।

7. पुस्तक का फोंट (फ़ॉन्ट) (अक्षर) बड़े आकार का है जिससे कि बच्चों और बड़ों के लिए पढ़ना आसान हो जाता है।

8. अनुवाद करते समय एक-एक शब्द को ध्यान में रख कर अनुवाद किया गया है।

9. पुस्तक को स्कूल अथवा काॅलेज के पाठ्यक्रमों के लिए उच्च शैक्षिक श्रेणी का बनाया गया है।

10. अच्छे कवर और काग़ज़ का प्रयोग किया है।

 

You may also like…

Loading...
0Shares